Hare Krishna Hare Krishna Krishna Krishna Hare Hare...
Hare Rama Hare Rama Rama Rama Hare Hare.........................

Thursday, September 22, 2011

कान्हा के नाम चिट्ठी -कृष्ण मुरारी लौट आ- चंद्रानी पुरकायस्थ



प्रीत रंग मोहे ऐसन लागी,छोड़े न छुटी जाय.
बदरी देखूं सावन गगन में, तोरे  बिरह में जिया अकुलाय .
हमका छोड़ गयों निर्मोही ,त्याग गयों निज  गाँव.
कंसारी नाम मथुरा बसत हैं ,कित गयो हमरो श्याम.
कित छोड़ी मोहन मुरली ,माखन मिश्री भोग  ,
कृष्ण मुरारी लौट आ , तडपाये  बिरह का  रोग .
राधा राधा न पुकारे बंशी ,यमुना तट सुनसान.
दरश को तेरे तडपत अँखियाँ ,कैसे सम्भालूँ रे  प्राण.
सुख धन स्वर्ग का मोह हमे ना  , नाहि कलंक का भय ताप.
तेरो साथ मिले जो  कान्हा , मिटे  जनमों का संताप .  
माधब मनोहर कृष्ण मुरारी, तुहूँ मम प्रानक प्राण .
तेरो चरण स्पर्श से कान्हा  कांटा कमल समान.

4 comments:

  1. krishn murari...loat aa....
    ab naa mohe you tarsha ......bahut ...sundar.,,,,,,

    ReplyDelete
  2. dhanyabad gurjar ji....bahut bahut dhanyabad

    ReplyDelete





  3. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  4. ap par aur apke parivar par mata rani ki kripa bani rahe.. Subh Navratri

    ReplyDelete